Chapter 1 Verses 39

Katham na jneyam asmaabhih paapaad asmaan nivartitum;
Kulakshayakritam dosham prapashyadbhir janaardana.

39. Why should not we, who clearly see evil in the destruction of a family, learn to turn away from this sin, O Janardana (Krishna)?

कथं न ज्ञेयमस्माभिः पापादस्मान्निवर्तितुम्।

कुलक्षयकृतं दोषं प्रपश्यद्भिर्जनार्दन।।39।।

तो भी हे जनार्दन ! कुल के नाश से उत्पन्न दोष को जाननेवाले हम लोगों को इस पाप से हटने के लिए क्यों नहीं विचार करना चाहिए?

Advertisements

Chapter 1 Verses 33

Yeshaam arthe kaangkshitam no raajyam bhogaah sukhaani cha;
Ta ime’vasthitaa yuddhe praanaamstyaktwaa dhanaani cha.

33. Those for whose sake we desire kingdoms, enjoyments and pleasures, stand here in battle, having renounced life and wealth.

येषामर्थे कांक्षितं नो राज्यं भोगाः सुखानि च।

त इमेऽवस्थिता युद्धे प्राणांस्त्यक्तवा धनानि च।।33।।

 हमें जिनके लिए राज्य, भोग और सुखादि अभीष्ट हैं, वे ही ये सब धन और जीवन की आशा को त्यागकर युद्ध में खड़े हैं | (33)

Gita Paath : Ramsukhdasji Maharaj

Chanting (MP3 files)  of Original Verses of Bhagavad Gita by Swami Ramsukhdas Ji Maharaj !

1 2 3 4 5
6 7 8 9 10
11 12 13 14 15
16 17 18 Aarti Bhajan

Sant Asaram Bapu : Essence of Gita

Part 1

Part 2

Part 3

Part 4

Part 5

Part 6

Part 7

Gita Verses Audio

Chapter-wise Audio (MP3 Files) of Mool Slokas (Original Verses) of Bhagavad Gita sung by Anuradha Paudwal.

   Description Size (Mb)
[SND] 01 – BG Chapter 1.mp3 24M
[SND] 02 – BG Chapter 2.mp3 23M
[SND] 03 – BG Chapter 3.mp3 14M
[SND] 04 – BG Chapter 4.mp3 16M
[SND] 05 – BG Chapter 5.mp3 10M
[SND] 06 – BG Chapter 6.mp3 16M
[SND] 07 – BG Chapter 7.mp3   11M
[SND] 08 – BG Chapter 8.mp3 10M
[SND] 09 – BG Chapter 9.mp3 19M
[SND] 10 – BG Chapter 10.mp3 22M
[SND] 11 – BG Chapter 11.mp3 31M
[SND] 12 – BG Chapter 12.mp3 11M
[SND] 13 – BG Chapter 13.mp3 18M
[SND] 14 – BG Chapter 14.mp3 14M
[SND] 15 – BG Chapter 15.mp3 12M
[SND] 16 – BG Chapter 16.mp3 13M
[SND] 17 – BG Chapter 17.mp3 14M
[SND] 18 – BG Chapter 18.mp3 39M

Courtesy : T-Series

Gita Chapter 18 : Mahatmya Story

Parvati said “My dear husband, you have told me the glories of the Seventeenth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita, now kindly relate the glories of the Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita.

Lord Shiva said; “Oh daughter of the Himalayas (Parvati), please listen to the glories of the Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-Gita, which is higher than the Vedas and the giver of unlimited bliss. When it enters into one’s ears it destroys all material desires. For the pure devotee, it is divine nectar, it is Lord Vishnu’s very life and it is a solace to the hearts of Lord Indra and the demigods as well as the great yogis headed by Sanaka and Sananda.

One who recites it sends the messengers of Yamaraja far away. There is no other recitation, which can so quickly destroy all sin and free one from the threefold miseries of this world. Now listen with great devotion.

On the topmost peak of Mount Meru is Amaravati, which was built by Visvakarma. In [hat heavenly kingdom, Lord Indra along with his wife Saci is served by the demigods. One day while Lord Indra was sitting peacefully, he saw that one very beautiful person had arrived there, whom the servants of Lord Vishnu were serving. When. Lord Indra saw that beautiful young person; he immediately fell from his throne unto the ground. At that time those demigod who had been worshipping Indra picked up the crown that he was wearing and placed it on the head of that new beautiful person. After that, all the demigods and other denizens of the heavenly planets started to perform arati and sing wonderful songs to that new King Indra. The great rishis came there and offered their blessings and chanted Vedic mantras and the Gandharvas and Apsaras started to sing and dance joyfully. In this way, the new Indra, who had not performed the usual one hundred horse sacrifices, started to enjoy hundreds of different types of services rendered by the demigods and other denizens of the heavenly planets. When the old Indra saw this he became very surprised.

He started to think to himself, “This person here has never built wells or dug kunds or planted trees for the welfare of others, and when there were droughts, he did not provide grains in charity. He never performed any fire-sacrifices or great charities in the holy places. So how has he managed to attain my seat?” The old Indra, feeling greatly disturbed in his mind, left to the ocean of milk to pray to Lord Vishnu. When he managed to obtain darshan of Lord Vishnu, he asked Him “My dear Lord Vishnu, in the past I performed many sacrifices and other pious activities, for which I was installed as the Lord of heaven. But at this time another person has come there and taken my place as the king of heaven. This person in his life never performed any great, wonderful pious activities, nor had he performed any great Vedic sacrifices. So, how is it possible that he has managed to obtain my throne?”

At that time Lord Vishnu said, “My dear Indra, That great soul has performed the recitation daily of the Eighteenth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita. Everyday during his life, he recited five Shlokas from this Chapter, and because of that activity he has attained the results of all sorts of pious activities and yajnas and after enjoying for many years as the king of heaven, he will attain My personal abode. If you perform the same activity of reciting the Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita, you can also attain My divine abode.”

After hearing Lord Vishnu’s words, Lord Indra took the form of a brahmana and went to the bank of the Godavari River, where he saw the town of Kalegrani, which is very sacred. At that place, the Supreme Lord in His form known as Kalesva, resides. Close to this town, on the bank of the Godavari river, one very pure brahmana was sitting, who was very merciful and had understood the topmost goal and secret of the Vedic literatures. Daily he would sit at that spot and recite Shlokas of the Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita. When Lord Indra saw him he became very happy. He immediately fell at his lotus-feet and requested him to teach him the Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita. After Lord Indra had practiced the recitation, of the Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita for sometime he managed to attain the topmost place of Vishnuloka. When he attained that place, he realized that the pleasure he had enjoyed as King Indra, along with the demigods, was nothing in comparison.

My dear Parvati, for this reason, the great sages, especially chant this Eighteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita and by so doing very quickly attain the lotus-feet of Lord Vishnu.

Anyone who hears or studies this Gita Mahatmya very quickly destroys all sins, which he has accumulated. And that person, who remembers this discourse with great faith attains the results of all kinds of pious activities and great sacrifices, and after enjoying all worldly opulence, attains the abode of Lord Vishnu.

अठारहवें अध्याय का माहात्म्य

श्रीपार्वतीजी ने कहाः भगवन् ! आपने सत्रहवें अध्याय का माहात्म्य बतलाया। अब अठारहवें अध्याय के माहात्म्य का वर्णन कीजिए।

श्रीमहादेवजी कहाः गिरिनन्दिनी ! चिन्मय आनन्द की धारा बहाने वाले अठारहवें अध्याय के पावन माहात्म्य को जो वेद से भी उत्तम है, श्रवण करो। वह सम्पूर्ण शास्त्रों का सर्वस्व, कानों में पड़ा हुआ रसायन के समान तथा संसार के यातनाजाल को छिन्नभिन्न करने वाला है। सिद्ध पुरुषों के लिए यह परम रहस्य की वस्तु है। इसमें अविद्या का नाश करने की पूर्ण क्षमता है। यह भगवान विष्णु की चेतना तथा सर्वश्रेष्ठ परम पद है। इतना ही नहीं, यह विवेकमयी लता का मूल, कामक्रोध और मद को नष्ट करने वाला, इन्द्र आदि देवताओं के चित्त का विश्राममन्दिर तथा सनकसनन्दन आदि महायोगियों का मनोरंजन करने वाला है। इसके पाठमात्र से यमदूतों की गर्जना बन्द हो जाती है। पार्वती ! इससे बढ़कर कोई ऐसा रहस्यमय उपदेश नहीं है, जो संतप्त मानवों के त्रिविध ताप को हरने वाला और बड़ेबड़े पातकों का नाश करने वाला हो। अठारहवें अध्याय का लोकोत्तर माहात्म्य है। इसके सम्बन्ध में जो पवित्र उपाख्यान है, उसे भक्तिपूर्वक सुनो। उसके श्रवणमात्र से जीव समस्त पापों से मुक्त हो जाता है।

मेरुगिरि के शिखर अमरावती नामवाली एक रमणीय पुरी है। उसे पूर्वकाल में विश्वकर्मा ने बनाया था। उस पुरी में देवताओं द्वारा सेवित इन्द्र शची के साथ निवास करते थे। एक दिन वे सुखपूर्वक बैठे हुए थे, इतने ही में उन्होंने देखा कि भगवान विष्णु के दूतों से सेवित एक अन्य पुरुष वहाँ रहा है। इन्द्र उस नवागत पुरुष के तेज से तिरस्कृत होकर तुरन्त ही अपने मणिमय सिंहासन से मण्डप में गिर पड़े। तब इन्द्र के सेवकों ने देवलोक के साम्राज्य का मुकुट इस नूतन इन्द्र के मस्तक पर रख दिया। फिर तो दिव्य गीत गाती हुई देवांगनाओं के साथ सब देवता उनकी आरती उतारने लगे। ऋषियों ने वेदमंत्रों का उच्चारण करके  उन्हें अनेक आशीर्वाद दिये। गन्धर्वों का ललित स्वर में मंगलमय गान होने लगा।

इस प्रकार इस नवीन इन्द्र का सौ यज्ञों का अनुष्ठान किये बिना ही नाना प्रकार के उत्सवों से सेवित देखकर पुराने इन्द्र को बड़ा विस्मय हुआ। वे सोचने लगेःइसने तो मार्ग में कभी पौंसले (प्याऊ) बनवाये हैं, पोखरे खुदवाये है और पथिकों को विश्राम देने वाले बड़ेबड़े वृक्ष ही लगवाये है। अकाल पड़ने पर अन्न दान के द्वारा इसने प्राणियों का सत्कार भी नहीं किया है। इसके द्वारा तीर्थों में सत्र और गाँवों में यज्ञ का अनुष्ठान भी नहीं हुआ है। फिर इसने यहाँ भाग्य की दी हुई ये सारी वस्तुएँ कैसे प्राप्त की हैं? इस चिन्ता से व्याकुल होकर इन्द्र भगवान विष्णु से पूछने के लिए प्रेमपूर्वक क्षीरसागर के तट पर गये और वहाँ अकस्मात अपने साम्राज्य से भ्रष्ट होने का दुःख निवेदन करते हुए बोलेः

लक्ष्मीकान्त ! मैंने पूर्वकाल में आपकी प्रसन्नता के लिए सौ यज्ञों का अनुष्ठान किया था। उसी के पुण्य से मुझे इन्द्रपद की प्राप्ति हुई थी, किन्तु इस समय स्वर्ग में कोई दूसरा ही इन्द्र अधिकार जमाये बैठा है। उसने तो कभी धर्म का अनुष्ठान किया है यज्ञों का फिर उसने मेरे दिव्य सिंहासन पर कैसे अधिकार जमाया है?’

श्रीभगवान बोलेः इन्द्र ! वह गीता के अठारहवें अध्याय में से पाँच श्लोकों का प्रतिदिन पाठ करता है। उसी के पुण्य से उसने तुम्हारे उत्तम साम्राज्य को प्राप्त कर लिया है। गीता के अठारहवें अध्याय का पाठ सब पुण्यों का शिरोमणि है। उसी का आश्रय लेकर तुम भी पद पर स्थिर हो सकते हो।

भगवान विष्णु के ये वचन सुनकर और उस उत्तम उपाय को जानकर इन्द्र ब्राह्मण का वेष बनाये गोदावरी के तट पर गये। वहाँ उन्होंने कालिकाग्राम नामक उत्तम और पवित्र नगर देखा, जहाँ काल का भी मर्दन करने वाले भगवान कालेश्वर विराजमान हैं। वही गोदावर तट पर एक परम धर्मात्मा ब्राह्मण बैठे थे, जो बड़े ही दयालु और वेदों के पारंगत विद्वान थे। वे अपने मन को वश में करके प्रतिदिन गीता के अठारहवें अध्याय का स्वाध्याय किया करते थे। उन्हें देखकर इन्द्र ने बड़ी प्रसन्नता के साथ उनके दोनों चरणों में मस्तक झुकाया और उन्हीं अठारहवें अध्याय को पढ़ा। फिर उसी के पुण्य से उन्होंने श्री विष्णु का सायुज्य प्राप्त कर लिया। इन्द्र आदि देवताओं का पद बहुत ही छोटा है, यह जानकर वे परम हर्ष के साथ उत्तम वैकुण्ठधाम को गये। अतः यह अध्याय मुनियों के लिए श्रेष्ठ परम तत्त्व है। पार्वती ! अठारहवे अध्याय के इस दिव्य माहात्म्य का वर्णन समाप्त हुआ। इसके श्रवण मात्र से मनुष्य सब पापों से छुटकारा पा जाता है। इस प्रकार सम्पूर्ण गीता का पापनाशक माहात्म्य बतलाया गया। महाभागे ! जो पुरुष श्रद्धायुक्त होकर इसका श्रवण करता है, वह समस्त यज्ञों का फल पाकर अन्त में श्रीविष्णु का सायुज्य प्राप्त कर लेता है।

Gita Chapter 17 : Mahatmya Story

Lord Shiva said, “My dear Parvati, you have heard the unlimited glories of the Sixteenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita. Now, kindly hear the nectarine glories of the Seventeenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita.

King Khadgabahu’s son had a servant by the name of Dushasan who was very crafty and exceptionally foolish. Dushasan made a bet with the prince that he could ride the elephant, at which time he jumped upon the elephant and after going a few steps, the people there started requesting him, not to ride that dangerous elephant. But foolish Dushasan started to prod that elephant and used strong words to urge him on. Suddenly, that elephant became very angry and started to run wildly here and there. Unable to hold on, Dushasan fell to the ground. The elephant stomped on him and Dushasan died. After that he attained the body of an elephant in Simhaldwip, where he stayed in the king’s palace.

The king of Simhaldwip was a close friend of King Khadgabahu. One day the king of Simhaldwip decided to send that elephant as a present to his friend, King Khadgabahu, who in turn presented that elephant to one poet, who pleased him with his beautiful poetry.

Thereafter, that poet sold that elephant for one hundred gold coins to the king of Malva. After some time, that elephant contracted a terminal disease. When the elephant-keepers saw that the elephant had stopped eating and drinking, they reported the matter to the king. When the king found out, he went to the place of the elephant, along with the best of doctors. At that time, to the surprise of that king, the elephant started to speak, “My dear king you are very pious, and a strict follower of the Vedas. You always worship the lotus feet of Lord Vishnu. So you should know, that at this time, these medicines and doctors will be of no use. Neither any kind of charity of sacrifice will help at the time of death. If you care for me and want to help me, then bring someone, who daily recites the Seventeenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita.”

As requested by that elephant, the king brought one great devotee, who regularly recited the Seventeenth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita. That devotee, while chanting the Seventeenth Chapter, sprinkled water on the elephant at which time he gave up his elephant body and attained a four-armed form, similar to that of Lord Vishnu. He immediately sat down in a flower airplane, which had been sent to take him to Vaikuntha. While sitting in that airplane, the king inquired from him about his previous birth, and Dushasan, after telling him everything, left for Vaikuntha. After which, that best of men, the king of Malva, started regularly reciting the Seventeenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita. After a short time he attained the lotus feet of Lord Krishna.

सत्रहवें अध्याय का माहात्म्य

श्रीमहादेवजी कहते हैंपार्वती ! सोलहवें अध्याय का माहात्म्य बतलाया गया। अब सत्रहवें अध्याय की अनन्त महिमा श्रवण करो। राजा खड्गबाहू के पुत्र का दुःशासन नाम का एक नौकर था। वह बहुत खोटी बुद्धि का मनुष्य था। एक बार वह माण्डलीक राजकुमारों के साथ बहुत धन  बाजी लगाकर हाथी पर चढ़ा और कुछ ही कदम आगे जाने पर लोगों के मना करने पर भी वह मूढ हाथी के प्रति जोरजोर से कठोर शब्द करने लगा। उसकी आवाज सुनकर हाथी क्रोध से अंधा हो गया और दुःशासन पैर फिसल जाने के कारण पृथ्वी पर गिर पड़ा। दुःशासन को गिरकर कुछकुछ उच्छवास लेते देख काल के समान निरंकुश हाथी ने क्रोध से भरकर उसे ऊपर फेंक दिया। ऊपर से गिरते ही उसके प्राण निकल गये। इस प्रकार कालवश मृत्यु को प्राप्त  होने के बाद उसे हाथी की योनि मिली और सिंहलद्वीप के महाराज के यहाँ उसने अपना बहुत समय व्यतीत किया।

सिंहलद्वीप के राजा की महाराज खड्गबाहु से बड़ी मैत्री थी, अतः उन्होंने जल के मार्ग से उस हाथी को मित्र की प्रसन्नता के लिए भेज दिया। एक दिन राजा ने श्लोक की सम्सयापूर्ति से संतुष्ट होकर किसी कवि को पुरस्काररूप में वह हाथी दे दिया और उन्होंने सौ स्वर्णमुद्राएँ लेकर मालवनरेश के हाथ बेच दिया। कुछ काल व्यतीत होने पर वह हाथी यत्नपूर्वक पालित होने पर भी असाध्य ज्वर से ग्रस्त होकर मरणासन्न हो गया। हाथीवानों ने जब उसे ऐसी शोचनीय अवस्था में देखा तो राजा के पास जाकर हाथी के हित के लिए शीघ्र ही सारा हाल कह सुनायाःमहाराज ! आपका हाथी अस्वस्थ जान पड़ता है। उसका खाना, पीना और सोना सब छूट गाया है। हमारी समझ में नहीं आता इसका क्या कारण है।

हाथीवानों का बताया हुआ समाचार सुनकर राजा ने हाथी के रोग को पहचान वाले चिकित्साकुशल मंत्रियों के साथ उस स्थान पर पदार्पण किया, जहाँ हाथी ज्वरग्रस्त होकर पड़ा था। राजा को देखते ही उसने ज्वरजनित वेदना को भूलकर संसार को आश्चर्य में डालने वाली वाणी में कहाः सम्पूर्ण शास्त्रों के ज्ञाता, राजनीति के समुद्र, शत्रुसमुदाय को परास्त करने वाले तथा भगवान विष्णु के चरणों में अनुराग रखनेवाले महाराज ! इन औषधियों से क्या लेना है? वैद्यों से भी कुछ लाभ होने वाला नहीं है, दान ओर जप भी क्या सिद्ध होगा? आप कृपा करके गीता के सत्रहवें अध्याय का पाठ करने वाले किसी ब्राह्मण को बुलवाइये।

हाथी के कथनानुसार राजा ने सब कुछ वैसा ही किया। तदनन्तर गीतापाठ करने वाले ब्राह्मण ने जब उत्तम जल को अभिमंत्रित करके उसके ऊपर डाला, तब दुःशासन गजयोनि का परित्याग करके मुक्त हो गया। राजा ने दुःशासन को दिव्य विमान पर आरूढ तथा इन्द्र के समान तेजस्वी देखकर पूछाःपूर्वजन्म में तुम्हारी क्या जाति थी? क्या स्वरूप था? कैसे आचरण थे? और किस कर्म से तुम यहाँ हाथी होकर आये थे? ये सारी बातें मुझे बताओ।

 राजा के इस प्रकार पूछने पर संकट से छूटे हुए दुःशासन ने विमान पर बैठेहीबैठे स्थिरता के साथ अपना पूर्वजन्म का उपर्युक्त समाचार यथावत कह सुनाया। तत्पश्चात् नरश्रेष्ठ मालवनरेश ने भी गीता के सत्रहवें अध्याय  पाठ करने लगे। इससे थोड़े ही समय में उनकी मुक्ति हो गयी।