Gita Chapter 6 : Mahatmya Story

Lord Vishnu said, “Now I will tell you the glories of the Sixth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita. Whoever hears this description, will be liberated from the material world.

On the bank of the Godavari river, there is a beautiful town of the name Pratishthanpur (Paithan), where I am famous by the name of Pippalesh. In that town there was a king of the name Janshruti, Whom the people loved very much and whose qualities were unlimited. He performed daily fire sacrifices, which were so opulent and large that the smoke from them reached the Heavenly pleasure garden known as Nandanvan, and made the leaves of the Kalpavrksa trees black. Those trees appeared as if they were offering their respects to king Janashruti. Due to the pious activities of that great king, demigods always resided in Pratishthanpur.

When Janshruti would give charity, he would distribute just as the clouds distribute the rain. Due to Janshruti’s pure religious activities, rain always come at the right time. And the fields were always full of crops, which were not disturbed by the six types of rodents. He was always digging wells and lakes for the welfare of the citizens. The demigods, being very pleased with Janashruti, went to his palace in the form of swans to bless him. They were flying through the sky, one behind the other, talking together. Bhadrashva, along with two or three other swans, flew ahead of the rest. At that time, the other swans addressed Bhadrashva, “Oh, brother, why are you flying ahead? Do you not see in front of you the great king Janashruti, who is so powerful that he can burn up his enemies by his desire?” When Bhadrashva heard the words of the other swans, he started to laugh and said, “Oh brothers, is this king Janashruti as powerful as-the great sage Raikva?”

When the king heard the words of the swans, he immediately came down from the roof of his high palace and happily sat on his throne. At that time he called his chariot driver and instructed him to go and find the great sage Raikva. When the chariot driver of the name Maha heard the king’s instructions, he became very happy, and left immediately to search out Raikva. First he traveled to Kashipuri, where Lord Vishvanath resides, for the welfare of all beings. Next, he went to Gaya, where the lotus-eyed Lord Gadadhara who is capable of freeing all beings from the bondage of birth and death, stays. After having traveled to many holy places, he came to Mathura, which is capable of destroying all sins. In this place the Supreme Personality of Godhead, Lord Krishna, resides. All of the great sages, demigods, also the Vedas, and other shastras, in their personal forms, perform austerities, and render service to Lord Krishna. Mathura which is in the shape of a half-moon, and is situated on the bank of the beautiful devotion-giving river Jamuna. In that area is the beautiful Govardhana hill, which adds to the splendor and glory of Mathura-Mandala like a large jewel in a crown. It is surrounded by pure trees and creepers. There are twelve wonderful forests surrounding Mathura in which Lord Krishna enjoys His wonderful pastimes.

After leaving Mathura, Maha traveled to the West, and then to the North. One day, he came to a town known as Kashmir in which he saw a very large and shining white place. At that place all of the people, even the foolish men, looked as beautiful demigods due to the fact that many sacrificial fires were burning continuously. It looked as if a row of clouds always hung over the town. The Deity of Lord Shiva, known as Manikeshvara, resided in that town. The king of Kashmir had just returned from defeating many kings, and was engaged in worshipping Lord Shiva. Due to his great devotion to Lord Shiva, that king was known as Manikeshvar. Just close to the door of the temple, sitting on a small cart, underneath a tree, Maha saw the great sage Raikva. When he recognized Raikva from the description of Janashruti, he immediately fell at his feet and inquired from him. “Oh, great sage, where do you live? And what is your full name? You are such a highly elevated person. Why are you sitting in this place?” When Raikva heard the words of Maha, he thought for some time, and then replied, “I am fully satisfied, I do not require anything.”

When Maha heard this reply, in his heart he could understand everything. He immediately left on the long journey, back to Pratishthanpur. When he reached his destination, he immediately went and offered his respects to the king, and with folded hands informed the king of all the events, which had taken place. After the king had heard everything from Maha he decided to leave at once, to take the darshan of the great sage Raikva. Sitting in a beautiful chariot, and taking with him many valuable gifts, he left for Kashmir. When he reached the place, where the sage Raikva was staying, he fell at his feet and placed the entire valuable silks and jewels, which he had brought with him before Raikva. At that time, the great sage Raikva became very angry. He said, “Oh foolish king, you take all these useless things and put them in your chariot, and leave from this place”. The king immediately with great devotion, fell at the feet of Raikva, and begged his forgiveness, asking him to be merciful upon him. He inquired from Raikva, “Oh, sage, how have you attained such a high state of renunciation and devotion to the Lord?” Becoming pleased with the king’s submissive attitude, Raikva replied “Daily I recite the Sixth Chapter of Srimad Bhagavad-gita “.

After that, king Janashruti heard from Raikva the Sixth Chapter of Srimad Bhagavad-gita. And thereafter, he engaged in daily reciting that Sixth Chapter. And in course of time a flower airplane arrived and took him to Vaikuntha. Meanwhile, that great sage, who was reciting the Sixth Chapter of Srimad Bhagavad-gita daily, went to Vaikuntha, where he engaged in the service of the lotus-feet of the Supreme Lord Vishnu.

Anyone, who recites this Sixth Chapter of Srimad Bhagavad-gita, will very soon attain service to the lotus-feet of Lord Vishnu, of this there is no doubt.

छठे अध्याय का माहात्म्य

श्री भगवान कहते हैं सुमुखि ! अब मैं छठे अध्याय का माहात्म्य बतलाता हूँ, जिसे सुनने वाले मनुष्यों के लिए मुक्ति करतलगत हो जाती है | गोदावरी नदी के तट पर प्रतिष्ठानपुर (पैठण) नामक एक विशाल नगर है, जहाँ मैं पिप्लेश के नाम से विख्यात होकर रहता हूँ | उस नगर में जानश्रुति नामक एक राजा रहते थे, जो भूमण्डल की प्रजा को अत्यन्त प्रिये थे | उनका प्रताप मार्तण्ड-मण्डल के प्रचण्ड तेज के समान जान पड़ता था | प्रतिदिन होने वाले उनके यज्ञ के धुएँ से नन्दनवन के कल्पवृक्ष इस प्रकार काले पड़ गये थे, मानो राजा की असाधारण दानशीलता देखकर वे लज्जित हो गये हों | उनके यज्ञ में प्राप्त पुरोडाश के रसास्वादन में सदा आसक्त होने के कारण देवता लोग कभी प्रतिष्ठानपुर को छोड़कर बाहर नहीं जाते थे | उनके दान के समय छोड़े हुए जल की धारा, प्रतापरूपी तेज और यज्ञ के धूमों से पुष्ट होकर मेघ ठीक समय पर वर्षा करते थे | उस राजा के शासन काल में ईतियों (खेती में होने वाले छः प्रकार के उपद्रवों) के लिए कहीं थोड़ा भी स्थान नहीं मिलता था और अच्छी नीतियों का सर्वत्र प्रसार होता था | वे बावली, कुएँ और पोखरे खुदवाने के बहाने मानो प्रतिदिन पृथ्वी के भीतर की निधियों का अवलोकन करते थे | एक समय राजा के दान, तप, यज्ञ और प्रजापालन से संतुष्ट होकर स्वर्ग के देवता उन्हें वर देने के लिए आये | वे कमलनाल के समान उज्जवल हंसों का रूप धारण कर अपनी पँख हिलाते हुए आकाशमार्ग से चलने लगे | बड़ी उतावली के साथ उड़ते हुए वे सभी हंस परस्पर बातचीत भी करते जाते थे | उनमें से भद्राश्व आदि दो-तीन हंस वेग से उड़कर आगे निकल गये | तब पीछेवाले हंसों ने आगे जाने वालों को सम्बोधित करके कहाः अरे भाई भद्राश्व ! तुमलोग वेग से चलकर आगे क्यों हो गये? यह मार्ग बड़ा दुर्गम है | इसमें हम सबको साथ मिलकर चलना चाहिए | क्या तुम्हे दिखाई नहीं देता, यह सामने ही पुण्यमूर्ति महाराज जानश्रुति का तेजपुंज अत्यन्त स्पष्ट रूप से प्रकाशमान हो रहा है? (उस तेज से भस्म होने की आशंका है, अतः सावधान होकर चलना चाहिए |)

पीछेवाले हंसों के ये वचन सुनकर आगेवाले हंस हँस पड़े और उच्च स्वर से उनकी बातों की अवहेलना करते हुए बोलेः अरे भाई ! क्या इस राजा जानश्रुति का तेज ब्रह्मवादी महात्मा रैक्व के तेज से भी अधिक तीव्र है?”

हंसों की ये बातें सुनकर राजा जानश्रुति अपने ऊँचे महल की छत से उतर गये और सुखपूर्वक आसन पर विराजमान हो अपने सारथि को बुलाकर बोलेः जाओ, महात्मा रैक्व को यहाँ ले आओ | राजा का यह अमृत के समान वचन सुनकर मह नामक सारथि प्रसन्नता प्रकट करता हुआ नगर से बाहर निकला | सबसे पहले उसने मुक्तिदायिनी काशीपुरी की यात्रा की, जहाँ जगत के स्वामी भगवान विश्वनाथ मनुष्यों को उपदेश दिया करते हैं | उसके बाद वह गया क्षेत्र में पहुँचा, जहाँ प्रफुल्ल नेत्रोंवाले भगवान गदाधर सम्पूर्ण लोकों का उद्धार करने के लिए निवास करते हैं | तदनन्तर नाना तीर्थों में भ्रमण करता हुआ सारथि पापनाशिनी मथुरापुरी में गया | यह भगवान श्री कृष्ण का आदि स्थान है, जो परम महान तथा मोक्ष प्रदान कराने वाला है | वेद और शास्त्रों में वह तीर्थ त्रिभुवनपति भगवान गोविन्द के अवतारस्थान के नाम से प्रसिद्ध है | नाना देवता और ब्रह्मर्षि उसका सेवन करते हैं | मथुरा नगर कालिन्दी (यमुना) के किनारे शोभा पाता है | उसकी आकृति अर्द्धचन्द्र के समान प्रतीत होती है | वह सब तीर्थों के निवास से परिपूर्ण है | परम आनन्द प्रदान करने के कारण सुन्दर प्रतीत होता है | गोवर्धन पर्वत होने से मथुरामण्डल की शोभा और भी बढ़ गयी है | वह पवित्र वृक्षों और लताओं से आवृत्त है | उसमें बारह वन हैं | वह परम पुण्यमय था सबको विश्राम देने वाले श्रुतियों के सारभूत भगवान श्रीकृष्ण की आधारभूमि है |

तत्पश्चात मथुरा से पश्चिम और उत्तर दिशा की ओर बहुत दूर तक जाने पर सारथि को काश्मीर नामक नगर दिखाई दिया, जहाँ शंख के समान उज्जवल गगनचुम्बी महलों की पंक्तियाँ भगवान शंकर के अट्टहास की शोभा पाती हैं, जहाँ ब्राह्मणों के शास्त्रीय आलाप सुनकर मूक मनुष्य भी सुन्दर वाणी और पर्दों का उच्चारण करते हुए देवता के समान हो जाते हैं, जहाँ निरन्तर होने वाले यज्ञधूम से व्याप्त होने के कारण आकाश-मंडल मेघों से धुलते रहने पर भी अपनी कालिमा नहीं छोड़ते, जहाँ उपाध्याय के पास आकर छात्र जन्मकालीन अभ्यास से ही सम्पूर्ण कलाएँ स्वतः पढ़ लेते हैं तथा जहाँ मणिकेश्वर नाम से प्रसिद्ध भगवान चन्द्रशेखर देहधारियों को वरदान देने के लिए नित्य निवास करते हैं | काश्मीर के राजा मणिकेश्वर ने दिग्विजय में समस्त राजाओं को जीतकर भगवान शिव का पूजन किया था, तभी से उनका नाम मणिकेश्वर हो गया था | उन्हीं के मन्दिर के दरवाजे पर महात्मा रैक्व एक छोटी सी गाड़ी पर बैठे अपने अंगों को खुजलाते हुए वृक्ष की छाया का सेवन कर रहे थे | इसी अवस्था में सारथि ने उन्हें देखा | राजा के बताये हुए भिन्न-भिन्न चिह्नों से उसने शीघ्र ही रैक्व को पहचान लिया और उनके चरणों में प्रणाम करके कहाः ब्रह्मण ! आप किस स्थान पर रहते हैं? आपका पूरा नाम क्या है? आप तो सदा स्वच्छंद विचरने वाले हैं, फिर यहाँ किसलिए ठहरे हैं? इस समय आपका क्या करने का विचार है?”

सारथि के ये वचन सुनकर परमानन्द में निमग्न महात्मा रैक्व ने कुछ सोचकर उससे कहाः यद्यपि हम पूर्णकाम हैं – हमें किसी वस्तु की आवश्यकता नहीं है, तथापि कोई भी हमारी मनोवृत्ति के अनुसार परिचर्या कर सकता है | रैक्व के हार्दिक अभिप्राय को आदपपूर्वक ग्रहण करके सारथि धीरे-से राजा के पास चल दिया | वहाँ पहुँचकर राजा को प्रणाम करके उसने हाथ जोड़कर सारा समाचार निवदेन किया | उस समय स्वामी के दर्शन से उसके मन में बड़ी प्रसन्नता थी | सारथि के वचन सुनकर राजा के नेत्र आश्चर्य से चकित हो उठे | उनके हृदय में रैक्व का सत्कार करने की श्रद्धा जागृत हुई | उन्होंने दो खच्चरियों से जुती हुई गाड़ी लेकर यात्रा की | साथ ही मोती के हार, अच्छे-अच्छे वस्त्र और एक सहस्र गौएँ भी ले लीं | काश्मीर-मण्डल में महात्मा रैक्व जहाँ रहते थे उस स्थान पर पहुँच कर राजा ने सारी वस्तुएँ उनके आगे निवेदन कर दीं और पृथ्वी पर पड़कर साष्टांग प्रणाम किया | महात्मा रैक्व अत्यन्त भक्ति के साथ चरणों में पड़े हुए राजा जानश्रुति पर कुपित हो उठे और बोलेः रे शूद्र ! तू दुष्ट राजा है | क्या तू मेरा वृत्तान्त नहीं जानता? यह खच्चरियों से जुती हुई अपनी ऊँची गाड़ी ले जा | ये वस्त्र, ये मोतियों के हार और ये दूध देने वाली गौएँ भी स्वयं ही ले जा | इस तरह आज्ञा देकर रैक्व ने राजा के मन में भय उत्पन्न कर दिया | तब राजा ने शाप के भय से महात्मा रैक्व के दोनों चरण पकड़ लिए और भक्तिपूर्वक कहाः ब्रह्मण ! मुझ पर प्रसन्न होइये | भगवन ! आपमें यह अदभत माहात्म्य कैसे आया? प्रसन्न होकर मुझे ठीक-ठीक बताइये |

रैक्व ने कहाः राजन ! मैं प्रतिदिन गीता के छठे अध्याय का जप करता हूँ, इसी से मेरी तेजोराशि देवताओं के लिए भी दुःसह है |

तदनन्तर परम बुद्धिमान राजा जानश्रुति ने यत्नपूर्वक महात्मा रैक्व से गीता के छठे अध्याय का अभ्यास किया | इससे उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हुई | रैक्व पूर्ववत् मोक्षदायक गीता के छठे अध्याय का जप जारी रखते हुए भगवान मणिकेश्वर के समीप आनन्दमग्न हो रहने लगे | हंस का रूप धारण करके वरदान देने के लिए आये हुए देवता भी विस्मित होकर स्वेच्छानुसार चले गये | जो मनुष्य सदा इस एक ही अध्याय का जप करता है, वह भी भगवान विष्णु के स्वरूप को प्राप्त होता है – इसमें तनिक भी सन्देह नहीं है |

One Response

  1. bhakti ki dhara guruvar bahaate……

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: