Gita Chapter 3 : Mahatmya Story

Lord Vishnu said, “My dear Lakshmi, in the town of Janasthan was a brahmana of the name Jada, who was born in the dynasty of Kaushik. That brahmana gave up the religious activities enjoined in the shastras to be followed by the brahmana class, and took to many irreligious activities. He was very fond of gambling and drinking, hunting, and visiting the prostitutes. In this way, he wasted his wealth. He went to the northern countries on a business trip. While there, he gained much wealth and decided to return to Janasthan. After having traveled a long distance he, found himself in a very deserted place. One day, as the sun set, and everywhere became engulfed by darkness, he decided to take rest for the night under a tree. While resting, some robbers came and beat him to death, and stole his wealth. Because Jada had given up all religious activities and led a sinful life, after his death he attained the form of a ghost.

The son of Jada was very religious and learned in the Vedic shastras. When he saw that his father had not returned to Janasthan after a long time, he decided to go and search for him. For many days he traveled here and there, in search of his father, and whatever travelers he would meet, he would inquire from them, about his father. One day, he met one person who knew his father, and informed him of the events that had taken place. When the son of Jada heard the news of his father’s death, he decided to go to Kasi (Banaras) to offer pinda (worship) for the release of his father from his hellish condition. On the ninth day of his journey, he happened to take rest under the same tree under which his father had been killed. At that place, in the evening, he performed his daily worship to Lord Krishna, and he also recited the Third Chapter of Srimad Bhagavad-gita. As he completed his recitation, a loud sound came from the sky. When he looked up, he saw his father there, and in front of his eyes, his father’s form changed into one of the most beautiful beings, who had four hands, and was wearing a yellow dhoti. His body was the color of a dark rain was wearing a yellow dhoti. His body was the color of a dark rain cloud and his bodily effulgence was lightening up all the directions. At that time, his father offered his blessing to him. The son inquired from the father, as to the meaning of these wonderful happenings. The father said, “My dear son, you recited the Third chapter of Srimad Bhagavad-gita, and thus freed me from the ghost form which I had received, due to my sinful activities. Now you should return to your home, because the purpose for which you were traveling to Kasi (Banaras) has been achieved by your reciting the Third Chapter of Bhagavad-gita”.

When the son inquired from the father, if there were any further instructions from him, the father said, “My brother also had led a very sinful life and he is suffering some where in the darkest regions of hell. So if you wish to free him, and our other ancestors, who are suffering here and there, in different species in the material universe, then kindly, recite the Third Chapter of Srimad Bhagavad-gita. And by that recitation they will all attain a form similar to Lord Vishnu’s, and go to Vaikuntha”.

When the son heard the father’s instructions he replied, “If that is the case, then I will recite the Third Chapter until all the souls, who are trapped in the hellish life, are freed” At that time his father blessed him with the words, “Let it be.” Then an airplane arrived from the spiritual world of Vaikuntha and took the father to his destination.

Thereafter, the son returned to Janasthan and sat in front of the Deity of Lord Krishna, and with a desire to free all of the conditioned souls in the hellish condition, started reciting the Third Chapter of Srimad Bhagavad-gita. While his recitation was continuing, day after day, Lord Vishnu sent His messengers, the Vishnudutas, to the kingdom of Yamaraja, who is in charge of administering punishment to the sinful living entities. When the Vishnudutas arrived in front of Yamaraja, they informed him, that they had a message from Lord Vishnu, who is lying on the bed of Ananta-Sesha in the ocean of milk. They told him that Lord Vishnu was inquiring as to his welfare, and also was ordering him to free all of the conditioned souls, who were suffering in hell.

When Yamaraja heard this instruction from Lord Vishnu, he immediately had all of the conditioned souls released from hell and then personally went with those Vishnudutas to the ocean of milk, known as Svetadwipa, to have the darshan of Lord Vishnu.

When he arrived there, he saw Lord Vishnu, lying on the bed of Ananta-Sesha. His body had the effulgence of suns, and Lakshmi-Devi, the Goddess of Fortune, was massaging His feet. He was surrounded on all sides by rishis, sages, and demigods, headed by Lord Indra, who were all singing the Praises of Lord Vishnu. Lord Brahma was also present, reciting the Vedas. Yamaraja fell down and offered his respects before Lord Vishnu, and offered the following praise, “My dear Vishnu, You are the well-wisher of all the conditioned souls. There is no Limit of Your glories. From You the Vedas have come, You are time. And in The course of time You will destroy all things. You are the cause and maintainer of the three worlds and You are the Supersoul in every one’s heart, who is directing their activities. You are the Guru of the whole universe, and the goal of all devotees. Oh, lotus-eyed one, please accept my obeisances again and again. Your glories are unlimited.”

In this way Yamaraja with folded hands offered his respects to Lord Vishnu. Yamaraja continued, “As per Your instructions, I have released all the conditioned souls from hell. So kindly instruct me, what work You wish me to perform now” Lord Vishnu replied in a voice as deep as thunder, and as sweet as nectar, “My dear Dharmaraja (Yamaraja), you are equal to every one, and I do not need to instruct you on your duties. Kindly return to your abode with my full blessings, and continue your duty”

At that time, Lord Vishnu disappeared from the vision of Yamaraja, and Yamaraja returned to his own abode. After that brahmana had successfully freed all of his ancestors and the rest of the conditioned souls from hell, the Vishnudutas came, and took him to the abode of Lord Vishnu, where he was able to engage in the service of the lotus-feet of the Supreme Personality of Godhead eternally.

तीसरे अध्याय का माहात्म्य

श्री भगवान कहते हैं- प्रिये ! जनस्थान में एक जड़ नामक ब्राह्मण था, जो कौशिक वंश में उत्पन्न हुआ था | उसने अपना जातीय धर्म छोड़कर बनिये की वृत्ति में मन लगाया | उसे परायी स्त्रियों के साथ व्यभिचार करने का व्यसन पड़ गया था | वह सदा जुआ खेलता, शराब पीता और शिकार खेलकर जीवों की हिंसा किया करता था | इसी प्रकार उसका समय बीतता था | धन नष्ट हो जाने पर वह व्यापार के लिए बहुत दूर उत्तर दिशा में चला गया | वहाँ से धन कमाकर घर की ओर लौटा | बहुत दूर तक का रास्ता उसने तय कर लिया था | एक दिन सूर्यास्त हो जाने पर जब दसों दिशाओं में अन्धकार फैल गया, तब एक वृक्ष के नीचे उसे लुटेरों ने धर दबाया और शीघ्र ही उसके प्राण ले लिए | उसके धर्म का लोप हो गया था, इसलिए वह बड़ा भयानक प्रेत हुआ |

उसका पुत्र बड़ा ही धर्मात्मा और वेदों का विद्वान था | उसने अब तक पिता के लौट आने की राह देखी | जब वे नहीं आये, तब उनका पता लगाने के लिए वह स्वयं भी घर छोड़कर चल दिया | वह प्रतिदिन खोज करता, मगर राहगीरों से पूछने पर भी उसे उनका कुछ समाचार नहीं मिलता था | तदनन्तर एक दिन एक मनुष्य से उसकी भेंट हुई, जो उसके पिता का सहायक था, उससे सारा हाल जानकर उसने पिता की मृत्यु पर बहुत शोक किया | वह बड़ा बुद्धिमान था | बहुत कुछ सोच-विचार कर पिता का पारलौकिक कर्म करने की इच्छा से आवश्यक सामग्री साथ ले उसने काशी जाने का विचार किया | मार्ग में सात-आठ मुकाम डाल कर वह नौवें दिन उसी वृक्ष के नीचे आ पहुँचा जहाँ उसके पिता मारे गये थे | उस स्थान पर उसने संध्योपासना की और गीता के तीसरे अध्याय का पाठ किया | इसी समय आकाश में बड़ी भयानक आवाज हुई | उसने पिता को भयंकर आकार में देखा फिर तुरन्त ही अपने सामने आकाश में उसे एक सुन्दर विमान दिखाई दिया, जो तेज से व्याप्त था | उसमें अनेकों क्षुद्र घंटिकाएँ लगी थीं | उसके तेज से समस्त दिशाएँ आलोकित हो रही थीं | यह दृश्य देखकर उसके चित्त की व्यग्रता दूर हो गयी | उसने विमान पर अपने पिता को दिव्य रूप धारण किये विराजमान देखा | उनके शरीर पर पीताम्बर शोभा पा रहा था और मुनिजन उनकी स्तुति कर रहे थे | उन्हें देखते ही पुत्र ने प्रणाम किया, तब पिता ने भी उसे आशीर्वाद दिया |

तत्पश्चात् उसने पिता से यह सारा वृत्तान्त पूछा | उसके उत्तर में पिता ने सब बातें बताकर इस प्रकार कहना आरम्भ कियाः बेटा ! दैववश मेरे निकट गीता के तृतीय अध्याय का पाठ करके तुमने इस शरीर के द्वारा किए हुए दुस्त्यज कर्मबन्धन से मुझे छुड़ा दिया | अतः अब घर लौट जाओ क्योंकि जिसके लिए तुम काशी जा रहे थे, वह प्रयोजन इस समय तृतीय अध्याय के पाठ से ही सिद्ध हो गया है | पिता के यों कहने पर पुत्र ने पूछाः तात ! मेरे हित का उपदेश दीजिए तथा और कोई कार्य जो मेरे लिए करने योग्य हो बतलाइये | तब पिता ने कहाः अनघ ! तुम्हे यही कार्य फिर करना है | मैंने जो कर्म किये हैं, वही मेरे भाई ने भी किये थे | इससे वे घोर नरक में पड़े हैं | उनका भी तुम्हे उद्धार करना चाहिए तथा मेरे कुल के और भी जितने लोग नरक में पड़े हैं, उन सबका भी तुम्हारे द्वारा उद्धार हो जाना चाहिए | यही मेरा मनोरथ है | बेटा ! जिस साधन के द्वारा तुमने मुझे संकट से छुड़ाया है, उसी का अनुष्ठान औरों के लिए भी करना उचित है | उसका अनुष्ठान करके उससे होने वाला पुण्य उन नारकी जीवों को संकल्प करक दे दो | इससे वे समस्त पूर्वज मेरी ही तरह यातना से मुक्त हो स्वल्पकाल में ही श्रीविष्णु के परम पद को प्राप्त हो जायेंगे |

पिता का यह संदेश सुनकर पुत्र ने कहाः तात ! यदि ऐसी बात है और आपकी भी ऐसी रूचि है तो मैं समस्त नारकी जीवों का नरक से उद्धार कर दूँगा | यह सुनकर उसके पिता बोलेः बेटा ! एवमस्तु | तुम्हारा कल्याण हो | मेरा अत्यन्त प्रिय कार्य सम्पन्न हो गया | इस प्रकार पुत्र को आश्वासन देकर उसके पिता भगवान विष्णु के परम धाम को चले गये | तत्पश्चात् वह भी लौटकर जनस्थान में आया और परम सुन्दर भगवान श्रीकृष्ण के मन्दिर में उनके समक्ष बैठकर पिता के आदेशानुसार गीता के तीसरे अध्याय का पाठ करने लगा | उसने नारकी जीवों का उद्धार करने की इच्छा से गीतापाठजनित सारा पुण्य संकल्प करके दे दिया |

इसी बीच में भगवान विष्णु के दूत यातना भोगने वाले नरक की जीवों को छुड़ाने के लिए यमराज के पास गये | यमराज ने नाना प्रकार के सत्कारों से उनका पूजन किया और कुशलता पूछी | वे बोलेः धर्मराज ! हम लोगों के लिए सब ओर आनन्द ही आनन्द है | इस प्रकार सत्कार करके पितृलोक के सम्राट परम बुद्धिमान यम ने विष्णुदूतों से यमलोक में आने का कारण पूछा |

तब विष्णुदूतों ने कहाः यमराज ! शेषशय्या पर शयन करने वाले भगवान विष्णु ने हम लोगों को आपके पास कुछ संदेश देने के लिए भेजा है | भगवान हम लोगों के मुख से आपकी कुशल पूछते हैं और यह आज्ञा देते हैं कि आप नरक में पड़े हुए समस्त प्राणियों को छोड़ दें |

अमित तेजस्वी भगवान विष्णु का यह आदेश सुनकर यम ने मस्तक झुकाकर उसे स्वीकार किया और मन ही मन कुछ सोचा | तत्पश्चात् मदोन्मत्त नारकी जीवों को नरक से मुक्त देखकर उनके साथ ही वे भगवान विष्णु के वास स्थान को चले | यमराज श्रेष्ठ विमान के द्वारा जहाँ क्षीरसागर हैं, वहाँ जा पहुँचे | उसके भीतर कोटि-कोटि सूर्यों के समान कान्तिमान नील कमल दल के समान श्यामसुन्दर लोकनाथ जगदगुरु श्री हरि का उन्होंने दर्शन किया | भगवान का तेज उनकी शय्या बने हुए शेषनाग के फणों की मणियों के प्रकाश से दुगना हो रहा था | वे आनन्दयुक्त दिखाई दे रहे थे | उनका हृदय प्रसन्नता से परिपूर्ण था |

भगवती लक्ष्मी अपनी सरल चितवन से प्रेमपूर्वक उन्हें बार-बार निहार रहीं थीं | चारों ओर योगीजन भगवान की सेवा में खड़े थे | ध्यानस्थ होने के कारण उन योगियों की आँखों के तारे निश्चल प्रतीत होते थे | देवराज इन्द्र अपने विरोधियों को परास्त करने के उद्देश्य से भगवान की स्तुति कर रहे थे | ब्रह्माजी के मुख से निकले हुए वेदान्त-वाक्य मूर्तिमान होकर भगवान के गुणों का गान कर रहे थे | भगवान पूर्णतः संतुष्ट होने के साथ ही समस्त योनियों की ओर से उदासीन प्रतीत होते थे | जीवों में से जिन्होंने योग-साधन के द्वारा अधिक पुण्य संचय किया था, उन सबको एक ही साथ वे कृपादृष्टि से निहार रहे थे | भगवान अपने स्वरूप भूत अखिल चराचर जगत को आनन्दपूर्ण दृष्टि से आमोदित कर रहे थे | शेषनाग की प्रभा से उद्भासित और सर्वत्र व्यापक दिव्य विग्रह धारण किये नील कमल के सदृश श्याम वर्णवाले श्रीहरि ऐसे जान पड़ते थे, मानो चाँदनी से घिरा हुआ आकाश सुशोभित हो रहा हो | इस प्रकार भगवान की झाँकी के दर्शन करके यमराज अपनी विशाल बुद्धि के द्वारा उनकी स्तुति करने लगे |

यमराज बोलेः सम्पूर्ण जगत का निर्माण करने वाले परमेश्वर ! आपका अन्तःकरण अत्यन्त निर्मल है | आपके मुख से ही वेदों का प्रादुर्भाव हुआ है | आप ही विश्वस्वरूप और इसके विधायक ब्रह्मा हैं | आपको नमस्कार है | अपने बल और वेग के कारण जो अत्यन्त दुर्धर्ष प्रतीत होते हैं, ऐसे दानवेन्द्रों का अभिमान चूर्ण करने वाले भगवान विष्णु को नमस्कार है | पालन के समय सत्त्वमय शरीर धारण करने वाले, विश्व के आधारभूत, सर्वव्यापी श्रीहरि को नमस्कार है | समस्त देहधारियों की पातक-राशि को दूर करने वाले परमात्मा को प्रणाम है | जिनके ललाटवर्ती नेत्र के तनिक-सा खुलने पर भी आग की लपटें निकलने लगती हैं, उन रूद्ररूपधारी आप परमेश्वर को नमस्कार है | आप सम्पूर्ण विश्व के गुरु, आत्मा और महेश्वर हैं, अतः समस्त वैश्नवजनों को संकट से मुक्त करके उन पर अनुग्रह करते हैं | आप माया से विस्तार को प्राप्त हुए अखिल विश्व में व्याप्त होकर भी कभी माया अथवा उससे उत्पन्न होने वाले गुणों से मोहित नहीं होते | माया तथा मायाजनित गुणों के बीच में स्थित होने पर भी आप पर उनमें से किसी का प्रभाव नहीं पड़ता | आपकी महिमा का अन्त नहीं है, क्योंकि आप असीम हैं फिर आप वाणी के विषय कैसे हो सकते हैं? अतः मेरा मौन रहना ही उचित है |

इस प्रकार स्तुति करके यमराज ने हाथ जोड़कर कहाः जगदगुरो ! आपके आदेश से इन जीवों को गुणरहित होने पर भी मैंने छोड़ दिया है | अब मेरे योग्य और जो कार्य हो, उसे बताइये | उनके यों कहने पर भगवान मधुसूदन मेघ के समान गम्भीर वाणी द्वारा मानो अमृतरस से सींचते हुए बोलेः धर्मराज ! तुम सबके प्रति समान भाव रखते हुए लोकों का पाप से उद्धार कर रहे हो | तुम पर देहधारियों का भार रखकर मैं निश्चिन्त हूँ | अतः तुम अपना काम करो और अपने लोक को लौट जाओ |

यों कहकर भगवान अन्तर्धान हो गये | यमराज भी अपनी पुरी को लौट आये | तब वह ब्राह्मण अपनी जाति के और समस्त नारकी जीवों का नरक से उद्धार करके स्वयं भी श्रेष्ठ विमान द्वारा श्री विष्णुधाम को चला गया |

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: