Gita Chapter 10 : Mahatmya Story

Lord Shiva said, “My dear Parvati, I will now relate to you the glories of the Tenth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita, as related by Lord Vishnu to Lakshmi-Devi which in itself is a stairway to the spiritual world.

In Kashipuri, there was a Brahmana of the name Dhirabuddhi, who was as dear to me as Nandi, my carrier. He was always peaceful and all of his senses were fixed in the glorification of Lord Krishna. Wherever he would go, I would follow him with great love, so that I could protect and serve him. Seeing my activities, my eternal servant Bhringiriddhi inquired from me, “What kind of austerities and other pious activities has this great devotee performed, that you are personally rendering service to him?”

Hearing Bringiridhi’s inquiry I replied as follows. “Once, in Kailash parvata, in the garden known as punnaag, I was enjoying sitting in the moonlight, and suddenly there was a great wind, which caused the trees to shake with a very loud noise. Suddenly a shadow was cast all around as if a mountain was moving. Suddenly, in the sky, a very large bird in the color of a rain cloud appeared. Due to the flapping of its wings, it was causing the trees to shake and the dust to swirl around. Suddenly the bird landed on the ground and offered his respects to me and also one beautiful lotus flower. After which, he said, “Oh Mahadeva! All glories to you, the shelter of all. There is no limit to your glories. You are the protector of the devotees, who have control over their senses. And you are the foremost of all the devotees of the Supreme Lord Krishna. Great souls such as Brihaspati are always chanting your glories. But even the thousand-headed Ananta Sesha, is not able to fully describe your glories. So what to speak of a bird like me, with such small intelligence.”

After hearing the bird’s prayer, I inquired, “who are you, and where are you coming from? You look like a swan and your bodily color is that of a crow.” That bird said, “Pease understand that I am the swan-carrier of Lord Brahma. And the reason for my body having attained a black color, I will relate to you.

Just close to Saurashtra (Surat) there is one beautiful lake, from where this wonderful heavenly lotus came from. I had been enjoying there for some time. Just as I was flying off from that place, I suddenly fell to the ground and my body took on this black color. At that time I was thinking to my self. How have I fallen down, and how has my body which was white like camphor, turned black? While thinking in this way I heard a voice, coming from the lotuses in the lake “Oh, swan, get up, I will tell you the reason why you fell down, and your body turned black.” At that time I got up and went to the center of the lake, where there were five extraordinary beautiful lotuses out of which came a very beautiful lady. After circumambulating her, I inquired as to the reason of my falling down. She replied; “Oh, black swan, while you were flying, you flew over me, and due to this offense, your body has now become black. When I saw you fall down, I felt sorry for you, thus, I called you here. When I opened my mouth, the scent emanating from it was able to purify at one time seven thousand black bees, who immediately attained admission into the heavenly realm. My dear king of birds, the reason I have such power I will tell you.

Previous to this birth, three births before, I was born in a Brahmana family, and my name was Sarojavadana, my father had always instructed me in the principles of chastity and when I got married I served my husband very faithfully. One day I found a Maina (a black bird), and due to looking after it, my service to my husband became affected, for which he became angry, and cursed me, “Oh, sinful woman, you will become a maina in your next birth.”

In my next birth I became a maina, but due to my following the principles of chastity strictly, I managed to come in contact with some sages, who kept me at their ashram. One of the sage’s daughters used to look after me. While staying there, every morning and evening I would hear the recitation of the tenth chapter of Srimad Bhagavad-gita, due to which in my next birth I attained the body of an apsara in the heavenly planets of the name Padmavati.

One day, I was traveling in a flower airplane when I saw the beautiful lotus flower on this lake. Coming here, I started to enjoy in the water. At that time, Durvasa-Muni arrived and saw me completely naked. Being afraid of him I immediately took on the form of five lotuses. My two arms became two lotuses and my two legs became two lotuses, and the rest of my body became the fifth lotus. From Durvasa Muni’s eyes fire started to emanate: “Oh, sinful one, you will stay in that form for one hundred years”. After cursing me, he immediately disappeared. But fortunately, I was able to remember the Tenth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita. And today, I have become free from the curse, due to your crossing over me, you fell to the ground and your body became black. But if you hear from me the Tenth Chapter of the Srimad Bhagavad-gita, you will be able to become free from
this situation.”

After Padmavati had completed reciting the Tenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita, she left in an airplane for Vaikuntha. After that I came here and offered this beautiful lotus from that lake to you.”

Lord Shiva said, “After that black swan completed his story he immediately gave up his body and took birth in a Brahmana family as Dhirabuddhi, who, from his childhood, always chanted the Tenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita.

And whoever would hear that chanting from him would attain darshan of Lord Vishnu, who is holding the Shankha and Chakra. Whoever would hear that chanting, whether they are fallen and addicted to intoxication, or even killers of brahmanas, they would attain the darshan of Lord Vishnu, who is holding the Shankha and Chakra. For that reason my dear Bhringiriddhi, I am always serving Dhirabuddhi.”

My dear Parvati, whether one be male or female, sannyasi or grhastha in fact whatever situation one may be in, if he chants the Tenth Chapter of Srimad Bhagavad-gita, he will attain the darshan of Lord Vishnu.

दसवें अध्याय का माहात्म्य

भगवान शिव कहते हैं सुन्दरी ! अब तुम दशम अध्याय के माहात्म्य की परम पावन कथा सुनो, जो स्वर्गरूपी दुर्ग में जाने के लिए सुन्दर सोपान और प्रभाव की चरम सीमा है। काशीपुरी में धीरबुद्धि नाम से विख्यात एक ब्राह्मण था, जो मुझमें प्रिय नन्दी के समान भक्ति रखता था। वह पावन कीर्ति के अर्जन में तत्पर रहने वाला, शान्तचित्त और हिंसा, कठोरता और दुःसाहस से दूर रहने वाला था। जितेन्द्रिय होने के कारण वह निवृत्तिमार्ग में  स्थित रहता था। उसने वेदरूपी समुद्र का पार पा लिया था। वह सम्पूर्ण शास्त्रों के तात्पर्य का ज्ञाता था। उसका चित्त सदा मेरे ध्यान में संलग्न रहता था। वह मन को अन्तरात्मा में लगाकर सदा आत्मतत्त्व का साक्षात्कार किया करता था, अतः जब वह चलने लगता, तब मैं प्रेमवश उसके पीछे दौड़-दौड़कर उसे हाथ का सहारा देता रहता था।

यह देख मेरे पार्षद भृंगिरिटि ने पूछाः भगवन ! इस प्रकार भला, किसने आपका दर्शन किया होगा? इस महात्मा ने कौन-सा तप, होम अथवा जप किया है कि स्वयं आप ही पग-पग पर इसे हाथ का सहारा देते रहते हैं?

भृंगिरिटि का यह प्रश्न सुनकर मैंने इस प्रकार उत्तर देना आरम्भ किया। एक समय की बात है – कैलास पर्वत के पार्श्वभागम में पुन्नाग वन के भीतर चन्द्रमा की अमृतमयी किरणों से धुली हुई भूमि में एक वेदी का आश्रय लेकर मैं बैठा हुआ था। मेरे बैठने के क्षण भर बाद ही सहसा बड़े जोर की आँधी उठी वहाँ के वृक्षों की शाखाएँ नीचे-ऊपर होकर आपस में टकराने लगीं, कितनी ही टहनियाँ टूट-टूटकर बिखर गयीं। पर्वत की अविचल छाया भी हिलने लगी। इसके बाद वहाँ महान भयंकर शब्द हुआ, जिससे पर्वत की कन्दराएँ प्रतिध्वनित हो उठीं। तदनन्तर आकाश से कोई विशाल पक्षी उतरा, जिसकी कान्ति काले मेघ के समान थी। वह कज्जल की राशि, अन्धकार के समूह अथवा पंख कटे हुए काले पर्वत-सा जान पड़ता था। पैरों से पृथ्वी का सहारा लेकर उस पक्षी ने मुझे प्रणाम किया और एक सुन्दर नवीन कमल मेरे चरणों में रखकर स्पष्ट वाणी में स्तुति करनी आरम्भ की।

पक्षी बोलाः देव ! आपकी जय हो। आप चिदानन्दमयी सुधा के सागर तथा जगत के पालक हैं। सदा सदभावना से युक्त और अनासक्ति की लहरों से उल्लसित हैं। आपके वैभव का कहीं अन्त नहीं है। आपकी जय हो। अद्वैतवासना से परिपूर्ण बुद्धि के द्वारा आप त्रिविध मलों से रहित हैं। आप जितेन्द्रिय भक्तों को अधीन अविद्यामय उपाधि से रहित, नित्यमुक्त, निराकार, निरामय, असीम, अहंकारशून्य, आवरणरहित और निर्गुण हैं। आपके भयंकर ललाटरूपी महासर्प की विषज्वाला से आपने कामदेव को भस्म किया। आपकी जय हो। आप प्रत्यक्ष आदि प्रमाणों से दूर होते हुए भी प्रामाण्यस्वरूप हैं। आपको बार-बार नमस्कार है। चैतन्य के स्वामी तथा त्रिभुवनरूपधारी आपको प्रणाम है। मैं श्रेष्ठ योगियों द्वारा चुम्बित आपके उन चरण-कमलों की वन्दना करता हूँ, जो अपार भव-पाप के समुद्र से पार उतरने में अदभुत शक्तिशाली हैं। महादेव ! साक्षात बृहस्पति भी आपकी स्तुति करने की धृष्टता नहीं कर सकते। सहस्र मुखोंवाले नागराज शेष में भी इतना चातुर्य नहीं है कि वे आपके गुणों का वर्णन कर सकें, फिर मेरे जैसे छोटी बुद्धिवाले पक्षी की तो बिसात ही क्या है?

उस पक्षी के द्वारा किये हुए इस स्तोत्र को सुनकर मैंने उससे पूछाः विहंगम ! तुम कौन हो और कहाँ से आये हो? तुम्हारी आकृति तो हंस जैसी है, मगर रंग कौए का मिला है। तुम जिस प्रयोजन को लेकर यहाँ आये हो, उसे बताओ।

पक्षी बोलाः देवेश ! मुझे ब्रह्मा जी का हंस जानिये। धूर्जटे ! जिस कर्म से मेरे शरीर में इस समय कालिमा आ गयी है, उसे सुनिये। प्रभो ! यद्यपि आप सर्वज्ञ हैं, अतः आप से कोई भी बात छिपी नहीं है तथापि यदि आप पूछते हैं तो बतलाता हूँ। सौराष्ट्र (सूरत) नगर के पास एक सुन्दर सरोवर है, जिसमें कमल लहलहाते रहते हैं। उसी में से बालचन्द्रमा के टुकड़े जैसे श्वेत मृणालों के ग्रास लेकर मैं तीव्र गति से आकाश में उड़ रहा था। उड़ते-उड़ते सहसा वहाँ से पृथ्वी पर गिर पड़ा। जब होश में आया और अपने गिरने का कोई कारण न देख सका तो मन ही मन सोचने लगाः अहो ! यह मुझ पर क्या आ पड़ा? आज मेरा पतन कैसे हो गया?’ पके हुए कपूर के समान मेरे श्वेत शरीर में यह कालिमा कैसे आ गयी? इस प्रकार विस्मित होकर मैं अभी विचार ही कर रहा था कि उस पोखरे के कमलों में से मुझे ऐसी वाणी सुनाई दीः हंस ! उठो, मैं तुम्हारे गिरने और काले होने का कारण बताती हूँ। तब मैं उठकर सरोवर के बीच गया और वहाँ पाँच कमलों से युक्त एक सुन्दर कमलिनी को देखा। उसको प्रणाम करके मैंने प्रदक्षिणा की और अपने पतन का कारण पूछा।

कमलिनी बोलीः कलहंस ! तुम आकाशमार्ग से मुझे लाँघकर गये हो, उसी पातक के परिणामवश तुम्हें पृथ्वी पर गिरना पड़ा है तथा उसी के कारण तुम्हारे शरीर में कालिमा दिखाई देती है। तुम्हें गिरा देख मेरे हृदय में दया भर आयी और जब मैं इस मध्यम कमल के द्वारा बोलने लगी हूँ, उस समय मेरे मुख से निकली हुई सुगन्ध को सूँघकर साठ हजार भँवरे स्वर्गलोक को प्राप्त हो गये हैं। पक्षिराज ! जिस कारण मुझमें इतना वैभव – ऐसा प्रभाव आया है, उसे बतलाती हूँ, सुनो। इस जन्म से पहले तीसरे जन्म में मैं इस पृथ्वी पर एक ब्राह्मण की कन्या के रूप में उत्पन्न हुई थी। उस समय मेरा नाम सरोजवदना था। मैं गुरुजनों की सेवा करती हुई सदा एकमात्र पतिव्रत के पालन में तत्पर रहती थी। एक दिन की बात है, मैं एक मैना को पढ़ा रही थी। इससे पतिसेवा में कुछ विलम्ब हो गया। इससे पतिदेवता कुपित हो गये और उन्होंने शाप दियाः पापिनी ! तू मैना हो जा। मरने के बाद यद्यपि मैं मैना ही हुई, तथापि पातिव्रत्य के प्रसाद से मुनियों के ही घर में मुझे आश्रय मिला। किसी मुनिकन्या ने मेरा पालन-पोषण किया। मैं जिनके घर में थी, वे ब्राह्मण प्रतिदिन विभूति योग के नाम से प्रसिद्ध गीता के दसवें अध्याय का पाठ करते थे और मैं उस पापहारी अध्याय को सुना करती थी। विहंगम ! काल आने पर मैं मैना का शरीर छोड़ कर दशम अध्याय के माहात्म्य से स्वर्ग लोक में अप्सरा हुई। मेरा नाम पद्मावती हुआ और मैं पद्मा की प्यारी सखी हो गयी।

एक दिन मैं विमान से आकाश में विचर रही थी। उस समय सुन्दर कमलों से सुशोभित इस रमणीय सरोवर पर मेरी दृष्टि पड़ी और इसमें उतर कर ज्यों हीं मैंने जलक्रीड़ा आरम्भ की, त्यों ही दुर्वासा मुनि आ धमके। उन्होंने वस्त्रहीन अवस्था में मुझे देख लिया। उनके भय से मैंने स्वयं ही कमलिनी का रूप धारण कर लिया। मेरे दोनों पैर दो कमल हुए। दोनों हाथ भी दो कमल हो गये और शेष अंगों के साथ मेरा मुख भी कमल का हो गया। इस प्रकार मैं पाँच कमलों से युक्त हुई। मुनिवर दुर्वासा ने मुझे देखा उनके नेत्र क्रोधाग्नि से जल रहे थे। वे बोलेः पापिनी ! तू इसी रूप में सौ वर्षों तक पड़ी रह। यह शाप देकर वे क्षणभर में अन्तर्धान हो गये कमलिनी होने पर भी विभूतियोगाध्याय के माहात्म्य से मेरी वाणी लुप्त नहीं हुई है। मुझे लाँघने मात्र के अपराध से तुम पृथ्वी पर गिरे हो। पक्षीराज ! यहाँ खड़े हुए तुम्हारे सामने ही आज मेरे शाप की निवृत्ति हो रही है, क्योंकि आज सौ वर्ष पूरे हो गये। मेरे द्वारा गाये जाते हुए, उस उत्तम अध्याय को तुम भी सुन लो। उसके श्रवणमात्र से तुम भी आज मुक्त हो जाओगे।

यह कहकर पद्मिनी ने स्पष्ट तथा सुन्दर वाणी में दसवें अध्याय का पाठ किया और वह मुक्त हो गयी। उसे सुनने के बाद उसी के दिये हुए इस कमल को लाकर मैंने आपको अर्पण किया है।

इतनी कथा सुनाकर उस पक्षी ने अपना शरीर त्याग दिया। यह एक अदभुत-सी घटना हुई। वही पक्षी अब दसवें अध्याय के प्रभाव से ब्राह्मण कुल में उत्पन्न हुआ है। जन्म से ही अभ्यास होने के कारण शैशवावस्था से ही इसके मुख से सदा गीता के दसवें अध्याय का उच्चारण हुआ करता है। दसवें अध्याय के अर्थ-चिन्तन का यह परिणाम हुआ है कि यह सब भूतों में स्थित शंख-चक्रधारी भगवान विष्णु का सदा ही दर्शन करता रहता है। इसकी स्नेहपूर्ण दृष्टि जब कभी किसी देहधारी क शरीर पर पड़ जाती है, तब वह चाहे शराबी और ब्रह्महत्यारा ही क्यों न हो, मुक्त हो जाता है तथा पूर्वजन्म में अभ्यास किये हुए दसवें अध्याय के माहात्म्य से इसको दुर्लभ तत्त्वज्ञान प्राप्त हुआ तथा इसने जीवन्मुक्ति भी पा ली है। अतः जब यह रास्ता चलने लगता है तो मैं इसे हाथ का सहारा दिये रहता हूँ। भृंगिरिटी ! यह सब दसवें अध्याय की ही महामहिमा है।

पार्वती ! इस प्रकार मैंने भृंगिरिटि के सामने जो पापनाशक कथा कही थी, वही तुमसे भी कही है। नर हो या नारी, अथवा कोई भी क्यों न हो, इस दसवें अध्याय के श्रवण मात्र से उसे सब आश्रमों के पालन का फल प्राप्त होता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: